Take a fresh look at your lifestyle.

खत्म हुई अमेरिका और रुस के बीच होने वाली आईएनएफ संधि

आईएनएफ यानि इंटरमीडिएट रेंज न्यूक्लियर फोर्स को रुसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने शनिवार को स्थगित कर दिया. इसके पहले अमेरिका ने रुस को चेतावनी दी थी कि यदि रुस इस संधि का उलंघन जारी रखता है तो अगले 6 महीने के भीतर ही अमेरिका इस संधि से बाहर निकल सकता है.

INF treaty

क्या था ये समझौता?

ये समझौता 1987 में तत्कालीन सोवियत संघ के राष्ट्रपति मिखाइल गोर्बाचेव और अमेरिकी राष्ट्रपति रोनाल्ड रीगन ने इस समझौते पर हस्ताक्षर किये थे. आईएनएफ एक ऐसा समूह है जो जमीन से मार करने वाली मध्यम दूरी की मिसाइलों के परीक्षण और तैनाती को रोकता है. इन मिसाइलों की रेंज 500 से 5500 किलोमीटर तक होती है.

INF treaty

क्यों टूट रही है ये संधि

अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने कहा कि प्रशासन कि ओर से रुस को एक फार्मल नोटिस भेजा जायेगा कि यदि वो इस संधि का पालन नहीं करेंगे तो अमेरिका इस संधि को खत्म करके इससे बाहर निकल जायेगा.

वहीं रुस की विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मारिया ज़खारोवा ने अमेरिका के इन आरोपों को बेबुनियाद बताया है और अमेरिका के पास किसी भी तरह के सबूत न होने की बात कही है.

INF treaty

पुतिन ने अमेरिका से पहले ही खत्म की संधि

लेकिन आज शनिवार को व्लादिमीर पुतिन ने रुसी फॉरेन मिनिस्टर और डिफेंस मिनिस्टर के साथ एक टीवी प्रसारण के माध्यम से लोगों को बताया कि अमेरिका इस संधि का खत्म करना चाहता है इससे पहले हम ही इस संधि को खत्म करते हैं.

अमेरिका ने दी थी रूस को चेतावनी

नाटो (North Atlantic Treaty Organization) ने भी अमेरिका का साथ देते हुए रुस को चेतावनी दी थी कि यदि रुस उन मिसाइल सिस्टम्स को नष्ट नहीं करता जिन पर अमेरिका को आपत्ति है तो इस संधि के खत्म होने पर रुस ही पूरी तरह से जिम्मेदार होगा. अमेरिका ने इस बात पर भी गंभीर चिंता जताई है कि चाइना भी एशिया में सैन्य लाभ लेने की फिराक में है और कई जगहों पर चाइना नें दायरे को तोड़कर कई बार और भी दूरी तक मार कर सकने वाली मिसाइलों को डेप्लाय किया है.

Comments are closed.