Take a fresh look at your lifestyle.

शूटिंग वर्ल्ड कप में सौरभ चौधरी ने विश्व रिकॉर्ड के साथ जीता गोल्ड

सौरभ चौधरी ने 2020 ओलंपिक के लिए किया क्वालिफाई

दिल्ली में डॉ. कर्णी सिंह शूटिंग रेंज में  विश्व निशानेबाजी प्रतियोगिता चल रही है. विश्व के तमाम निशानेबाज अलग-अलग वर्ग में निशाना साध रहे हैं. रविवार को 10 मीटर एयर पिस्टल की प्रतिस्पर्धा चल रही थी. भारत की निगाहें टिकी थी 16 साल के लड़के सौरभ चौधरी पर. ये वही सौरभ चौधरी हैं जिन्होंने पिछले साल एशियन गेम्स में गोल्ड पर निशाना साधा था.

Saurabh Chaudhary

बहरहाल प्रतियोगिता के पहले स्टेज में सौरभ शुरूआत के 5 शॉट्स के बाद सर्बिया के दामिर माइक के साथ सयुंक्त रूप से पहले स्थान पर थे. दर्शकों में उत्सुकता बढ़ती जा रही थी. जब थोड़ी देर बाद सभी निशानेबाजों के 10 शॉट्स पूर हुए तो सौरभ 102.2 के साथ पहले स्थान पर पहुंच गए जबकि दूसरे स्थान पर दामिर माइक 99.6 स्कोर पर थे. लेकिन इसके बाद जैसे ही दूसरे स्टेज की प्रतियोगिता शुरू हुई तो सौरभ ने अपने विपक्षी निशानेबाजों को कोई मौका ही नहीं दिया. सौरभ ने कुल 245 अंक हासिल किए.

ये अंक विश्व रिकॉर्ड बन गए. सौरभ ने निशानेबाजी के विश्वकप में विश्व रिकॉर्ड बनाते हुए गोल्ड मेडल अपने नाम किया. सौरभ के इस स्पर्धा में दबदबे का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि आखिरी शॉट से पहले ही उन्होंने गोल्ड मेडल अपने नाम कर लिया था जबकि अंतिम शॉट में वो नए विश्व रिकॉर्ड के लिए निशाना लगा रहे थे.

Saurabh Chaudhary

सौरभ बने 2020 में ओलंपिक में जाने वाले तीसरे भारतीय निशानेबाज

खास बात ये है कि सौरभ को 2020 ओलंपिक के लिए अपना कोटा बुक करा लिया है . इससे पहले दो अन्य भारतीय निशानेबाज अपूर्वी चंदेला और अंजुम मोदगिल ने ओलंपिक कोटा हासिल कर चुकी है. शनिवार को अपूर्वी चंदेला ने भी विश्व रिकॉर्ड के साथ महिला 10 मीटर एयर राइफल में स्वर्ण पदक अपने नाम किया था .

Saurabh Chaudhary

पढ़ाई से बचने के लिए थामा था पिस्टल

सौरभ चौधरी का जन्म 11 मई 2002 को उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले के कलीना गांव में किसान परिवार में हुआ था. शुरूआती दिनों में सौरभ पढ़ाई में बहुत कमजोर थे.  खासतौर पर गणित विषय में सौरभ बहुत कमजोर थे. पढ़ाई से बचने के लिए 13 साल की उम्र में जब सौरभ ने शूटिंग में करियर बनाने का फैसला किया. सौरभ ने पिछले साल कई उपलब्धियां अपने नाम की. दिसंबर 2017 में चौधरी ने यूथ ओलंपिक खेलों के लिए क्वालिफाई किया और वहां गोल्ड मेडल जीता. इसके अलावा एशियन गेम्स में भी गोल्ड मेडल जीता था.

Comments are closed.