Take a fresh look at your lifestyle.

वनडे सीरीज में ऑस्ट्रेलियाई प्रायोजकों का शर्मनाक रवैया, गावस्कर ने लताड़ा

भारत के पूर्व कप्तान सुनील गावस्कर ने मेजबान ऑस्ट्रेलिया को इस बात के लिए लताड़ा कि बोर्ड ने भारतीय टीम के ऐतिहासिक सीरीज जीतने के बाद कोई नकद पुरस्कार की घोषणा नहीं की. उन्होंने कहा कि खिलाड़ी उस राजस्व के हिस्सेदार हैं, जिसे बनाने में वो मदद करते हैं. भारत ने ऑस्ट्रेलिया में उसको पहली बार द्विपक्षीय वनडे सीरीज में 2-1 से हराया. ‘मैन ऑफ द मैच’ युजवेंद्र चहल और ‘मैन ऑफ द सीरीज’ महेंद्र सिंह धोनी को मैच के बाद 500-500 डॉलर (करीब 35-35 हजार रुपये) दिए गए.

Indian Cricket Team

आयोजकों पर भड़के गावस्कर

खिलाड़ियों ने यह इनामी राशि दान में दे दी. टीम के पूर्व बल्लेबाज एडम गिलक्रिस्ट ने महज विजेता ट्रॉफी प्रदान की. गावस्कर ने मेजबानों की आलोचना की कि उन्हें कोई नकद पुरस्कार नहीं दिया गया. गावस्कर ने कहा, ‘500 डालर क्या है, ये शर्मनाक है कि टीम को सिर्फ एक ट्रॉफी मिली. वे आयोजकों और प्रसारण अधिकारों से इतनी राशि अर्जित करते हैं कि वे खिलाड़ियों को अच्छी इनामी राशि क्यों नहीं दे सकते? आखिरकार खिलाड़ी ही खेल को इतनी राशि दिलाते हैं.’

धोनी-चहल को मिले 500-500 डॉलर

भारत ने युजवेंद्र चहल की फिरकी के कमाल के बाद ‘मैच फिनिशर’ महेंद्र सिंह धोनी और केदार जाधव के बीच चौथे विकेट के लिए नाबाद 121 रन की भागीदारी से शुक्रवार को तीसरे और अंतिम वनडे मैच में ऑस्ट्रेलिया को सात विकेट से हराकर तीन मैचों की सीरीज 2-1 से अपने नाम की. टेस्ट मैचों की सीरीज जीतकर इतिहास रचने वाली भारतीय टीम ने वनडे सीरीज में भी जीत हासिल की, इससे पहले टी20 अंतरराष्ट्रीय सीरीज 1-1 से बराबर रही थी. विराट कोहली की टीम ने इस तरह ऑस्ट्रेलिया में एक भी सीरीज नहीं गंवाई और यह श्रेय हासिल करने वाली वह पहली टीम बन गई.

Dhoni and Chahal

धोनी-चहल थे मैच के हीरो

इसमें ‘मैन ऑफ द सीरीज’ धोनी रहे जिन्होंने दूसरे वनडे में भी अंत में छक्का लगाकर मैच में जीत दिलाई और अपने आलोचकों को चुप कराया. ‘मैन आफ द मैच’ लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल (42 रन पर छह विकेट) की फिरकी के जादू से भारत ने आस्ट्रेलिया को 48.4 ओवर में 230 रन पर आउट कर दिया.

Comments are closed.