JioPhone Next : जियो के सबसे सस्ते स्मार्टफोन की लॉन्चिंग टली, जानिए क्यों खास है यह स्मार्टफोन

रिलायंस जियो (JIO) और गूगल (GOOGLE) के सहयोग वाली स्मार्टफोन जियोफोन नेक्स्ट (JioPhone Next) की लॉन्चिंग टल गयी है. सेमीकंडक्टर की कमी के कारण इस स्मार्टफोन की लॉन्चिंग में देर हो रही है. दोनों कंपनियां जियोफोन नेक्स्ट (JioPhone Next) पर और परीक्षण करना चाहती हैं. रिलायंस के मुखिया मुकेश अंबानी ने पहले यह घोषणा की थी कि यह स्मार्टफोन 10 सितंबर को गणेश चतुर्दशी के अवसर पर लॉन्च होगा.

दुनिया का सबसे सस्ता स्मार्टफोन

जियोफोन नेक्स्ट एक ऐसा स्मार्टफोन है जो एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम पर काम करेगा, जिसमें Google assistant, किसी भी ऑन-स्क्रीन टेक्स्ट के लिए रीड-अलाउड और लेग्वेज ट्रांसलेट, इंडिया-सेंट्रिक फिल्टर वाला स्मार्ट कैमरे जैसी सुविधाएं शामिल हैं. 24 जून को रिलायंस इंडस्ट्रीज की सालाना बैठक में, कंपनी के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने कहा था कि JioPhone नेक्स्ट “विश्व स्तर पर सबसे किफायती स्मार्टफोन” होगा.

JIO
Source- Gedgets360

JioPhone Next के फीचर-

रिलायंस जियो और गूगल ने अभी तक जियोफोन नेक्स्ट के स्पेसिफिकेशंस का खुलासा नहीं किया है, लेकिन लीक हुई जानकारी के अनुसार JioPhone नेक्स्ट 5.5-इंच HD डिस्प्ले के साथ आने की उम्मीद है. स्मार्टफोन क्वालकॉम QM215 SoC प्रोसेसर पर काम करेगा. Jio स्मार्टफोन को दो रैम और स्टोरेज वेरिएंट में पेश किया जाएगा, जिसमें 2GB RAM + 16GB स्टोरेज और 3GB RAM + 32GB स्टोरेज शामिल हैं.

JioPhone Next की क्या होगी कीमत

2GB रैम की कीमत लगभग 3499 रुपये हो सकती है वहीं टॉप-एंड मॉडल की कीमत लगभग 5,000 रुपये तक हो सकती है. कैमरा स्पेसिफिकेशंस के मामले में, JioPhone नेक्स्ट में रियर पैनल पर 13 मेगापिक्सल का कैमरा सेंसर है. सेल्फी और वीडियो कॉल के लिए फोन में फ्रंट कैमरा 8-मेगापिक्सल का है.

10 सितंबर को एक संयुक्त बयान में गूगल और जियो ने कहा, ‘दोनों कंपनियों ने सीमित यूजर्स के साथ जियो नेक्सट स्मार्टफोन का ट्रॉयल शुरू कर दिया है, दिवाली तक यह स्मार्टफोन बाजार में उपलब्ध होगी. तब तक स्मार्टफोन की सेमीकंडक्टर वाली दिक्कतों को ठीक कर लिया जाएगा’.

JIO
Source- BGR.in

सेमीकंडक्टर की कमी क्यों है

चिप और सेमीकंडक्टर को किसी भी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस का मुख्य केंद्र माना जाता है. कोविड के कारण इनकी आयात में दिक्कत हो रही है. दक्षिण कोरिया और ताइवान में चिप बनाने वाली कई बड़ी कंपनियां बंद हो गई हैं जिसके कारण मांग की पूर्ति नहीं हो पा रही है. एक तरफ कोरोना महामारी के कारण स्मार्टफोन, लैपटॉप, कंप्यूटर जैसे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की मांग बढ़ी है वहीं दूसरी तरफ कोरोना की वजह से मैन्युफैक्चरिंग कंपनियां बंद हैं.

पिछले साल शुरू हुई इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के पार्ट्स की कमी अगले साल 2022 तक जारी रह सकती है. भविष्य में इस स्थिति से निबटने के लिए कई कंपनियां कुछ बड़े कारखानों पर से निर्भरता कम करने की योजना बना रही हैं.

Ola की दमदार Scooter, 18 मिनट में 50% तक चार्ज होगी, सिंगल चार्ज में चलेगी 181 Km