Take a fresh look at your lifestyle.

भारतीय वायुसेना के इस बम ने जैश के ठिकानों पर बरपाया था कहर

वायुसेना के सबसे खतरनाक हथियारों में से एक है ये बम

पुलवामा में एक आत्मघाती हमले में सीआरपीएफ़ के 40 जवानों के मारे जाने के बाद दोनों ही देशों में तनाव बढ़ गया था. भारत ने कहा था कि वो इस हमले का जवाब देगा. जिसके बाद भारतीय वायुसेना ने पुलवामा में शहीद सीआरपीएफ जवानों की शहादत का बदला ले लिया है. वायुसेना ने एलओसी के अंदर 50 किलोमीटर घुसकर पाकिस्तान के आतंकी ठिकानों पर 1000 किलोग्राम के कई बम बरसाए. बताया जा रहा है कि पाकिस्तान पर बेहद शक्तिशाली थाउसेंड पाउंडर नामक बम बरसाए गए हैं.

इस बम का बंकर तोड़ने में होता हैं इस्तेमाल

सूत्रों के मुताबिक इन शक्तिशाली बमों का निर्माण जबलपुर स्थित आयुध निर्माणी खमरिया में हुआ है. विगत दिनों वायु सेना के लिए तैयार किए जाने वाले इन बमों का सेना दिवस पर आम जनता के सामने प्रदर्शन भी किया जा चुका है. देश में सबसे बड़े बम कहे जाने वाले थाउसेंड पाउंडर बमों की सेना में सबसे ज्यादा मांग है. सेना इसका इस्तेमाल दुश्मन के बंकर तोड़ने के साथ इमारतों में छुपे दुश्मन को खत्म करने के लिए इस्तेमाल करती है.

खतरनाक है थाउसेंड पाउंडर बम

उल्लेखनीय है कि धरती को हिला देने वाले थाउसेंड पाउंडर बम इतना प्रभावशाली होता है कि इसका धमाका कई किलोमीटर तक भूकम्प के समान धरती को हिला देता है. इसकी मार कई किलोमीटर तक होती है और आसपास की सारी चीजें ध्वस्त हो जाती हैं. पाकिस्तान के आतंकी ठिकानों पर जब ये बम गिरा होगा तो कई किलोमीटर का इलाका तबाह हो गया होगा.

Comments are closed.