Take a fresh look at your lifestyle.

आज है ‘राष्ट्रीय गणित दिवस’, जानिए इस दिन को मनाने की खास वजह

गणित को लेकर आज भी महान गणितज्ञ श्री निवास अयंगर रामानुजन का आज भी कोई तोड़ नहीं है.

आज पूरा देश ‘राष्ट्रीय गणित दिवस’ मना रहा है. हालांकि इस दिन को क्यों मनाया जाता है ये कुछ ही लोगों को पता होगा. जानकारी के लिए बता दें कि देश में इस दिन को महान गणितज्ञ श्री निवास अयंगर रामानुजन की याद में मनाया जाता है.

photo credit-Firkee

इस दिन को राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने चेन्नई में श्री निवास अयंगर रामानुजन की 125वीं वर्षगांठ के आयोजन के दौरान साल 2011 में घोषित किया था. जिसके बाद उन्होंने देश से गणितज्ञों की लगातार संख्या में कमी आने पर चिंता भी जाहिर की थी.

श्री निवास रामानुजन की इस प्रतिभा ने पिछली सदी के दूसरे दशक में गणित की दुनिया को अलग ही आयाम दिया. रामानुजन का जन्म 22 दिसंबर साल 1887 को मद्रास से करीब 400 किलोमीटर दूर ईरोड नगर में हुआ था. इनकी गिनती आधुनिक भारत के उन महान व्यक्तित्वों में की जाती है, जिन्होनें ना सिर्फ इस देश में बल्कि पूरी दुनिया में नये ज्ञान को पाने और खोजने की पहल की थी.

photo credit-biographyhindi

जानकारी के लिए बता दें कि रामानुजन के गणित पर लिखे लेख उस दौर की सबसे ज्यादा फेमस विज्ञान पत्रिका में प्रकाशित होते थे. सिर्फ 32 साल की उम्र में ही रामानुजन का निधन हो गया था. जिसके बाद उनकी पांच हजार थ्योरम्स को छपवाया गया और उनमें से ज्यादातर को कई दशकों तक नहीं सुलझाया जा सका.

श्री निवास अयंगर रामानुजन ने गणित कई बड़ी खोजे कीं, जो आज के समय में भी गणित और विज्ञान की आधारशिला बनी हुई हैं. संख्याओं के जादूगर माने जाने वाले श्री निवास अयंगर रामानुजन को गणितज्ञों का गणितज्ञ भी माना जाता है.

Comments are closed.