Take a fresh look at your lifestyle.

पीएम मोदी के SPG बॉडीगार्ड्स के हाथो में क्यों होता है सूटकेस?

SPG सूटकेस के बारे में रोचक जानकारियां

प्रधानमंत्री की सुरक्षा की जिम्मेदारी एसपीजी ‘स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप’ नाम की संस्था के पास होती है. एस.पी.जी पूर्व प्रधानमंत्री एवं उनके परिवार की सुरक्षा का ध्यान भी रखती है. प्रधानमंत्री जहां से गुजरते हैं, उनके चप्पे-चप्पे पर SPG के अचूक निशानेबाज तैनात होते हैं.

क्या अपने कभी ध्यान दिया है कि इन बॉडीगार्ड्स के हाथ में ब्रीफ़केस या सूटकेस भी होता है. आप चाहे तो इसकी झलक 26 जनवरी की परेड में देख सकते हैं. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि इस ब्रीफ़केस मे आखिर क्या रहता है?

सूटकेस में होता है न्यूक्लियर बटन

इस सूटकेस में न्यूक्लियर बटन होता है. जिसे प्रधानमंत्री से कुछ फ़ीट दूर रखा जाता है और ये सूटकेस बहुत पतला दिखता है. असल मे ये एक पोर्टेबल बुलेट प्रूफ शील्ड या पोर्टेबल बैलिस्टिक शील्ड होती है जिसे हमले के दौरान खोला जा सकता है जो कि एनआईजी लेवल-3 की सुरक्षा प्रदान करती है.

सूटकेस है प्रधानमंत्री का कवच

जब भी सुरक्षा बलों को किसी भी खतरे या संदिग्ध गतिविधि का अंदेशा होता है, वे प्रधानमंत्री को सुरक्षित करने के लिए उस शील्ड को नीचे की ओर झटका देते हैं जिससे वह शील्ड खुल जाती है. देखा जाए तो यह एक तरह से ढाल का काम करती है जोकि अति विशिष्ट व्यक्तियों को तत्काल और अस्थायी सुरक्षा देती है.

उन्नत सुरक्षा उपकरणों से लैस होता है सूटकेस

एसपीजी के साथ एक काउंटर अटैक टीम CAT (Counter Assault Team) भी होती है. इस टीम के पास “FNF-2000”, P-90, ग्लोक-17, ग्लोक-19 और “FNF-5” जैसे हथियारों को इस्तेमाल करने की कला भी होती है. इस टीम को कठोर प्रशिक्षण के माध्यम से प्रशिक्षित किया जाता है और इसकी खासियत है कि प्रधानमंत्री पर किसी भी हमले के दौरान ये तेजी से कार्रवाई करती हैं.

SPG

एसपीजी देश के विशिष्ट व्यक्तियों के अलावा राजनयिक यात्राओं पर आए दुनिया भर के नेताओं और अंतरराष्ट्रीय मेहमानों को भी सुरक्षा प्रदान करती है, आप उन्हें हर जगह हर कोने की जांच और हर संभावित खतरे को नष्ट करते देख सकते हैं.

Comments are closed.