Take a fresh look at your lifestyle.

इन कमजोरियों की वजह से ऑस्ट्रेलिया से T20 सीरीज हारा भारत

IND vs AUS :

ग्लेन मैक्सवेल की तूफानी और करिश्माई पारी की बदौलत ऑस्ट्रेलिया ने टीम इंडिया के खिलाफ दूसरा टी-20 मैच जीत लिया. इस जीत के साथ ही ऑस्ट्रेलिया ने टी-20 सीरीज पर भी कब्जा कर लिया. घरेलू मैदान में विराट कोहली के विजय रथ पर भी लगाम लग गई.

IND vs AUS

भारत की कमजोर गेंदबाजी

20 ओवर में 191 रनों का लक्ष्य कहीं से आसान नहीं होता. बशर्ते आपके पास अच्छे गेंदबाजों हो. बुधवार को खेले गए मैच में जसप्रीत बुमराह और यजुवेंद्र चहल को छोड़कर बाकि सभी गेंदबाज टीम इंडिया के ‘फ्रंटलाइन’ गेंदबाज नहीं हैं. टीम इंडिया ने मैनेजमेंट ने एक साथ टीम के लगभग सभी फ्रंटलाइन गेंदबाजों को ‘रेस्ट’ दिया है. पांच की बजाए तीन फ्रंटलाइन गेंदबाजों के साथ तो मैदान मारने की सोची जा सकती है, लेकिन सिर्फ दो गेंदबाज कैसे मैच जीताएंगे? दो मुख्य गेंदबाजों में भी चहल फॉर्म में नहीं थे. उन्हें 4 ओवरों में 47 रन पड़े.

सलामी बल्लेबाजों से छेड़-छाड़

ये ठीक है कि 2019 विश्व कप की टीम में केएल राहुल को तीसरे ओपनर के तौर पर शामिल किया जाएगा. ये भी ठीक है कि उन्हें कुछ मैचों में मौका मिलना चाहिए. उन्होंने टी-20 सीरीज के दोनों मैचों में शानदार प्रदर्शन भी किया. बावजूद इसके सलामी बल्लेबाजों की नियमित जोड़ी को तोड़ना पड़ा. पहले मैच में शिखर धवन को ‘रेस्ट’ दिया गया और दूसरे मैच में रोहित शर्मा को. रोहित शर्मा और शिखर धवन की जोड़ी का विश्व कप में खेलना 200 फीसदी तय है. केएल राहुल को ‘एडजस्ट’ करने के लिए उनकी जोड़ी के साथ प्रयोग नहीं करना चाहिए.

पंत को साबित करनी होगी अपनी प्रतिभा

इस बात को समझने की जरूरत है कि जब एक खिलाड़ी पर उसकी टीम इस कदर भरोसा कर रही हो तो उसकी जिम्मेदारी बढ़ जाती है. ऋषभ पंत इस बात को मानने के लिए तैयार ही नहीं हैं. टीम मैनेजमेंट उन्हें मौके दे रहा है, जिससे वो खुद को टीम की जरूरत के हिसाब से ढाल लें, लेकिन ऋषभ पंत अब भी अति आक्रामकता का शिकार हैं. बुधवार को खेले गए मैच में तीन गेंद पर मनचाहा ‘गैप’ ना ढूंढ पाने की झुंझलाहट में वो अपना विकेट खोकर आ गए.

Comments are closed.